‘इस’ तरह पता लगाए होटल में कैमरे है या नहीं, ये है 6 तरीके

मुंबई : समाचार ऑनलाइन – होटल, बाथरूम में लगे सीसीटीवी कैमरे का मामला लगातार बढ़ते जा रहा है। देश के छोटे-बड़े शहरों से अक्सर ऐसे मामले सामने आते हैं, जहां होटल के कमरे में कैमरे छुपाकर रखते है। दरअसल होटल में अपने साथी के साथ प्राइवेट पल बीता रहे हैं उस लम्हो को छुपकर रिकॉर्ड कर लेता है। इसके शिकार ज्यादातर हनीमून कपल होते है। वो होटलों में जाकर अपना प्राइवेट पल वहां बिताते है। होटल रूम के अलावा बाथरूम, चेंजिंग रूम में भी आज कल कैमरे छुपाये जाते है। इससे आपको सुरक्षित रहने की जरुरत है। अगर आप थोड़ी सी सावधानी बरते है तो आप इसके शिकार होने से बच जायेंगे।

कैमरे खोजने के 6 तरीके –
कैमरा अक्सर पंखे, प्लग इन, लाइट, किताबें या मैगजीन, डीवीडी केस, शेल्फ, लैपटॉप, कंप्यूटर, लैंप, दीवारें, ड्रॉवर, दीवारों के सॉकेट, मिरर,बाथरूम आदि में छुपे होते हैं।

कमरे हो या चेंजिंग रूम दोनों जगह कैमरे मिरर पर लगाकर रखा जाता है ताकि किसी को संदेह न हो और चित्र पूरी तरह विस्तार हो सके। इससे बचने के लिए एक उपाय है। सबसे पहले आप उस मिरर पर अपनी नाखून तो रखकर देखें। अगर आपकी अंगुली के नाखून और उसकी परछाई के बीच में कोई जगह नहीं दिखती तो शीशे के दूसरी तरफ कैमरा हो सकता है।

फ्लैशलाइट का भी इस्तेमाल कर आप इसे ढूंढ सकते है। जब कमरे की सारी लाइटें बंद हो जाएं तो एक फ्लैशलाइट को पूरे कमरे घुमाएं। शायद आपको कैमरे का रिफ्लेक्शन या प्रतिबिंब दिख जाए।

छिपे कैमरे को ढूंढने वाला या इलेक्ट्रो मैगनेटिक लाइट को खोजने वाला एक ऐप डाउनलोड करें। यह कैमरे कि फ्रीक्वेंसी का पता लगा सकता है।

आप रूम को नेटवर्क कैमरा के लिए स्कैन कर सकते हैं बिल्कुल वैसे ही जैसे वाईफाई के लिए करते हैं। अगर रूम में कोई लाइव कैमरा लगा होगा तो वह वाईफाई डिवाइसेस या मौजूदा नेटवर्क ऑप्शन में ज़रूर दिखेगा।

अधिकतर कैमरों को बिजली की जरूरत होती है और इसलिए बिजली उपकरणों में गैर जरूरी तार या जलती – बुझती रोशनी को जांचना ज़रूरी है। यहां तक कि एक अतिरिक्त तार भी कैमरे से कनेक्ट हो सकता है।

TheLogicalNews

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by TheLogicalNews. Publisher: Pune Samachar