#BJPNCP : देवेंद्र फडणवीस ने कहा, हम स्थिर सरकार देंगें, मोदी है तो मुमकिन है…

नयी दिल्ली : महाराष्ट्र के मुख्मंत्री पद की शपथ लेने के बाद देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि हम राज्य में स्थिर सरकार देंगे. मोदी है तो मुमकिन है. महाराष्ट्र में सरकार गठन के संबंध में आलोचनाओं पर पलटवार करते हुए भाजपा ने शनिवार को शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस गठबंधन को चोर दरवाजे से देश की वित्तीय राजधानी पर कब्जा करने की साजिश बताया और कहा कि भाजपा के पास सरकार बनाने का चुनावी और नैतिक जनादेश है.

भाजपा ने यह भी कहा कि देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में अजित पवार के साथ नया गठबंधन बना है जो स्थायी और प्रमाणिक होगा. भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने संवाददाताओं से कहा, ‘ एक स्थायी सरकार के लिए देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में सरकार गठन के लिए अजित पवार के साथ राकांपा का एक बड़ा तबका आया.
आज सुबह भाजपा और अजित पवार ने साथ आवेदन दिया कि हमारे पास बहुमत है.” उन्होंने सवाल किया, ‘ क्या शिवसेना और राकांपा का कोई आवेदन राज्यपाल के पास अब तक था ? ‘ शिवसेना पर निशाना साधते हुए कि प्रसाद ने कहा जा रहा है कि लोकतंत्र की हत्या की जा रही है. उन्होंने कहा कि जब शिवसेना स्वार्थ से प्रेरित होकर अपनी 30 साल पुरानी दोस्ती तोड़कर, अपनी विचारधारा की घोर विरोधी राकांपा और कांग्रेस का दामन थाम ले तो यह लोकतंत्र की हत्या नहीं है क्या ? शिवसेना, राकांपा, कांग्रेस के गठबंधन पर निशाना साधते हुए प्रसाद ने कहा कि महाराष्ट्र देश का बड़ा राज्य है और मुंबई देश की वित्तीय राजधानी. ” चोर दरवाजे से देश की वित्तीय राजधानी पर कब्जा करने की साजिश थी.”

प्रसाद ने जोर दिया कि हम प्रमाणिक, स्थायी और ईमानदार सरकार देंगे । प्रसाद ने कहा, ” जो आदरणीय बाला साहब ठाकरे के आदर्शों को जीवित नहीं रख सके उनके विषय में कुछ नहीं कहना है.” भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा कि उनका (बाला साहब) प्रमाणिक कांग्रेस विरोध जग जाहिर है, उनकी राष्ट्रभक्ति और राष्ट्रवाद और भारत की संस्कृति-संस्कार के प्रति समर्पण प्रमाणिक है. उन्होंने कहा, ” महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में जनादेश भाजपा और शिवसेना गठबंधन को था और मुख्यमंत्री का मैनडेट (जनादेश) बड़ी पार्टी भाजपा और देवेंद्र फडणवीस को था.

प्रसाद ने कहा कि शरद पवार और कांग्रेस ने परिणाम के बाद बयान दिया था कि हमें विपक्ष में बैठने का जनमत मिला ह. तो ये विपक्ष में बैठने का जनमत कुर्सी के लिए मैच फिक्सिंग कैसे हो गया था ? भाजपा नेता ने कहा कि कुछ लोग छत्रपति शिवाजी की विरासत की बात कर रहे हैं, उनसे मैं बस इतना कहूंगा कि सत्ता के लिए अपने विचारों से समझौता करने वाले तो कम से कम छत्रपति शिवाजी की बात न करें. उन्होंने पूछा कि चुनाव परिणाम के बाद शिवसेना किसके इशारे पर उग्र हो गई थी ?

    #MaharashtraPolitics : जानें, घमासान मचाने वाले अजित पवार की शख्सीयत को… महाराष्ट्र: छलका शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले का दर्द, कहा- पार्टी और परिवार टूट गये… #Maharashtra: नितिन गडकरी ने कहा, क्रिकेट और राजनीति में कुछ भी संभव

TheLogicalNews

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by TheLogicalNews. Publisher: Prabhat Khabar