देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार को मिलेगा चार दिन के कार्यकाल का वेतन

पांच साल महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रहे देवेंद्र फडणवीस का दूसरा कार्यकाल भले ही चार दिन भी नहीं चला, लेकिन गत शनिवार को दोबारा मुख्यमंत्री पद कि शपथ लेने वाले फडणवीस को चार दिन का वेतन मिलेगा. उनके साथ उप-मुख्यमंत्री पद कि शपथ लेने वाले अजित पवार को भी इस अवधि का वेतन मिलेगा. जानकारों के मुताबिक फडणवीस और पवार के शपथ लेने के बाद उनके वेतन का मीटर चालू हो गया था. हालांकि वह सरकार का गठन नहीं कर पाए. इसके चलते इस दौरान उनके द्वारा दी गई सेवाओं के एवज में तय मासिक वेतन का चार दिन का हिस्सा उन्हें मिलेगा.

सुप्रीम कोर्ट के वकील केसी कौशिक, ज्ञानंत सिंह और डीके गर्ग के मुताबिक शनिवार को राष्ट्रपति शासन हटने के बाद आनन-फानन में सुबह-सवेरे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले फडणवीस और अजित पवार को चार दिन के कार्यकाल का वेतन मिलेगा.
ये अलग बात है कि गुपचुप सरकार बनाने के बाद महज तीन दिन में अजित पवार अपने चाचा शरद पवार के पास लौट गए. विशेषज्ञों के मुताबिक महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री का वेतन और भत्ता करीब साढ़े तीन लाख रुपए महीने है. इस हिसाब से चार दिन का जो वेतन बनता होगा वो उन्हें मिलेगा.

किसी भी राज्य के मुख्यमंत्री का वेतन उस राज्य की विधानसभा तय करती है. केंद्र सरकार या संसद का इससे कोई लेना-देना नहीं होता है. मुख्यमंत्री का वेतन हर 10 सालों पर बढ़ता है. जिस तरह भारत में विधायकों के वेतन में महंगाई भत्ता एवं अन्य भत्ता शामिल होता है, उसी तरह मुख्यमंत्री के वेतन में भी सारे भत्ते शामिल होते हैं. वहीं उप मुख्यमंत्री की सैलरी मुख्यमंत्री से कम और कैबिनेट मंत्री से थोड़ी ज्यादा होती है. डिप्टी सीएम की सैलरी भी विधानसभा तय करती है.

उप मुख्यमंत्री पद का वेतन भी लगभग समान रहता है, क्योंकि यह पद सृजित किया जाता है. ऐसे में उनका वेतन भी मुख्यमंत्री के वेतन के समान ही होगा या उससे कुछ कमतर होगा. यह सटीक तौर पर कहना मुश्किल है. याद रहे कि मंगलवार सुबह सुप्रीम कोर्ट ने 27 नवंबर शाम 5 बजे तक फ्लोर टेस्ट कराने का फैसला सुनाया था. इसके कुछ घंटों बाद ही अजित पवार ने उप-मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया और करीब घंटे भर बाद फडणवीस ने भी इस्तीफे कि घोषणा कर दी.

इसके बाद मंगलवार शाम बीजेपी के विधायक कालिदास कोलंबकर प्रोटेम स्पीकर बनाए गए और उन्होंने बुधवार सुबह 8 बजे विधानसभा का पहला सत्र बुलाया है, जिसमें विधायकों को शपथ दिलवाई जाएगी.

संजय राउत बोले ‘अजित दादा हमारे साथ,’ पहले बताया था ‘पाप का सौदागर’

TheLogicalNews

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by TheLogicalNews. Publisher: TV9 Bharatvarsh